रेलवे से लेनी है ‘सुविधा’, तो अतिरिक्त किराया देना होगा

November 9, 2017, 11:05 AM
Share

मुंबई
आम आदमी की रेल को कमाई के ट्रैक पर ले जाने के लिए रेलवे नई-नई तरकीबें लगा रही है। कभी 5 साल के ऊपर के बच्चे का पूरा किराया तो, पूरी सीट जैसा नियम, तो कभी प्रीमियम किरायों से ट्रेनें चलाना। इसी तरह से ट्रेनों की स्पीड बढ़ाकर सुपरफास्ट किराया भी वसूला जा रहा है। अब त्योहारों के दौरान भीड़ को कम करने के लिए चलाई गई सुविधा ट्रेनों को विशेष ट्रेन में बदलकर अतिरिक्त किराया वसूला जा रहा है।

 मुंबई-लखनऊ ‘स्पेशल’
मुंबई सेंट्रल-लखनऊ-मुंबई सेंट्रल के बीच चलाई जा रही साप्ताहिक सुपरफास्ट सुविधा विशेष ट्रेन सं. 82907/82908 को बदलकर परिवर्तित ट्रेन सं. 09017/09018 मुंबई सेंट्रल-लखनऊ-मुंबई सेंट्रल साप्ताहिक सुपरफास्ट विशेष ट्रेन विशेष किराये के साथ चलाने का निर्णय लिया गया है। ट्रेन सं. 09017 मुंबई सेंट्रल-लखनऊ जं. साप्ताहिक सुपरफास्ट विशेष ट्रेन प्रत्येक गुरुवार को मुंबई सेंट्रल से 19.45 बजे प्रस्थान करेगी और अगले दिन 20.40 बजे लखनऊ जं. पहुंचेगी। यह ट्रेन 30 नवम्बर, 2017 तक चलेगी। इसी प्रकार वापसी में ट्रेन सं. 09018 लखनऊ जं.-मुंबई सेंट्रल साप्ताहिक सुपरफास्ट विशेष ट्रेन प्रत्येक शुक्रवार को लखनऊ जं. से 22.35 बजे प्रस्थान करेगी और अगले दिन 23.05 बजे मुंबई सेंट्रल पहुंचेगी। यह ट्रेन 1 दिसम्बर, 2017 तक चलेगी।

‘स्पेशल’ ट्रेन को ‘स्पेशल’ झटका
एक ओर रेलवे स्पेशल ट्रेनें बढ़ा रही है, तो दूसरी ओर महंगी ट्रेनों से यात्री मुंह मोड़ रहे हैं। इन दिनों रेलवे मुंबई से पटना के लिए प्रीमियम किराए के आधार पर सुविधा एक्सप्रेस ट्रेन चला रही है। यह ट्रेन सप्ताह में दो दिन मंगलवार और शुक्रवार को चलती है। जिस रूट पर ट्रेनें चार महीने में बुकिंग खुलते ही फुल हो जाती हैं उनका हाल कुछ ऐसा है। ट्रेन संख्या 82356 सुविधा एक्सप्रेस की सीटें सोमवार 65 प्रतिशत खाली थीं। मंगलवार को इस ट्रेन में स्लीपर क्लास की 454 सीटें, सेकेंड क्लास की 43 सीटें और थर्ड क्लास की 258 सीटें नहीं बिकीं थीं। इसी तरह शुक्रवार को चलने वाली सुविधा एक्सप्रेस के स्लीपर क्लास की 378 सीटें, सेकंड क्लास की 23 सीटें और थर्ड एसी की 172 सीटें खाली थीं। स्लीपर का न्यूनतम किराया 600-700 रुपये है और प्रीमियम के तहत इसी सीट का किराया 2200 रुपये हो जाता है।

Source-Nav Bharat Times

Share

This entry was posted in Public Facilities, Public Utility, Rail Development